हुआ था इनको ‘रियल लव’, पूजा से शाहिदा बन गयी, अब बैठी रो रही है जमशेदपुर की सड़कों पर

ये कोई पहली घटना नहीं है, हजारों घटनाएं हम दैनिक भारत पर ही लिख चुके है, लाखों घटनाएं ऐसी हो चुकी है, और आये दिन होती ही रहती है

काफी सारे लोग समझाने की कोशिश करते है पर उन्लता उनको अपमान मिलता है, वही के वही डाइलोग होते है – तुम क्या जानो क्या होता है प्यार, सब एक जैसे नहीं होते, तुम लोग धर्म में ही लगे रहो इन्सान बन जाओ पहले, इत्यादि इत्यादि

पर रिजल्ट कुछ इसी प्रकार का होता है जो जमशेदपुर की पूजा के साथ हुआ जो की शाहिदा भी बन गयी, प्रेम में भैया धर्मांतरण का क्या काम है आजतक पूजा जैसी कोई लड़की नहीं बता सकी, और धर्मांतरण इनका अब्दुल क्यों नहीं करता सिर्फ ये ही क्यों करती है ये भी आजतक पूजा जैसी लड़कियां नहीं बता सकी

जमशेदपुर की पूजा को भी लव हुआ था, सच्चा वाला लव और इनको अब्दुल महताब से लव हुआ था, 2014 में ये उसके साथ निकल ली, आजाद लड़की थी ये एकदम मॉडर्न, और लव भी तो इनका सच्चा वाला ही था, अब्दुल के घर चली गयी

अब्दुल ने पहले इनको पूजा से शहीदा बना दिया, फिर काफी दिनों तक प्रेम के मजे लुटे, फिर अब्दुल का मन भर गया तो पूजा उर्फ़ शाहिदा को अब्दुल ने मुर्ख बना दिया, एक उर्दू में लिखे दस्तावेज पर पूजा के धोखे से हस्ताक्षर ले लिए, मैडम को उर्दू पढना तो आता न था

 

पूजा का हुआ बुरा हाल

असल में वो तलाक का दस्तावेज था, अब्दुल ने पूजा उर्फ़ शाहिदा को धोके से तलाक देकर घर से बाहर उठाकर फेंक दिया, खूब रोई, सर फोड़ा, पर कोई फायदा न हुआ, फिर पूजा उर्फ़ शाहिदा को सड़कों की ख़ाक ही छाननी पड़ी

अपने शौहर अब्दुल के घर वापस गयी की कुछ खर्चा मिलेगा, तो वहां अब्दुल के भाई और उसकी अम्मी ने पूजा उर्फ़ शाहिदा को खूब पीटा, मार मार कर सड़क पर फेंक दिया, मैडम अच्छे घर से थी पर अब सड़कों पर धुल चाट रही थी, इतने में कुछ लोगो को तरस आ गई तो पुलिस बुलाई गयी, अब पूजा को पुलिस अपने साथ ले गयी, पर क्या फायदा, तलाक हो चूका, और अब इनको रोना ही रोना लिखा है, इनका सच्चा प्यार अब सड़क पर धुल चाट रहा है