MP के 30 करोड़ स्वाहा, अपने पसंद के अधिकारीयों को विभागों में सेट करने के लिए कर दिए स्वाहा

मध्य प्रदेश के शहरों का इन दिनों बुरा हाल है, बिजली नहीं है, कटौती होने लगी है, किसानो का भी बुरा हाल है, बिजली है नहीं, पानी की किल्लत हो रही खेतों में, और मेड इन भोपाल मोबाइल कब लगेगा युवा इसी इंतज़ार में है

वहीँ दूसरी ओर कमलनाथ सरकार के पास करोडो रुपए है अपने मनपसंद अधिकारीयों को अपने हिसाब से विभागों में सेट करने के लिए, कमलनाथ सरकार ने मध्य प्रदेश के 30 करोड़ रुपए सिर्फ अधिकारीयों के ट्रान्सफर में खर्च कर डाले है

आईएस और आईपीएस अधिकारीयों के ट्रान्सफर में कमलनाथ सरकार ने 30 करोड़ खर्च कर दिए है, कमलनाथ सरकार ने पिछले 6 महीने में 450 से ज्यादा आईएस और आईपीएस अधिकारीयों के ट्रान्सफर किये है

ट्रान्सफर करने को लेकर आईएस और आईपीएस अधिकारीयों को ग्रांट के रूप में पैसे देने पड़ते है, और सरकार ने खाजेने से 30 करोड़ स्वाहा कर दिए है, 1 ही अधिकारी का कई कई बार ट्रान्सफर किया गया है

और ये सबकुछ इसलिए किया गया ताकि अपने पसंद के अधिकारी विभागों में सेट किये जा सके, राज्य में भले बिजली की स्तिथि ख़राब हो चुकी है, पानी की किल्लत हो रही है, पर सरकार का पूरा ध्यान सिर्फ अधिकारीयों के ट्रान्सफर पर ही है

आपकी जानकारी के लिए बता दें की कमलनाथ खुद एक व्यापारी, कारोबारी ही है, इनका बहुत बड़ा कारोबार और व्यापार है, और ये अपने पसंद के अधिकारी विभागों में सेट करके रखना चाहते है, ताकि इनके मन मुताबिक सबकुछ बढ़िया चल सके

जबकि दूसरी ओर इंदौर जैसे शहरों में जो की मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा शहर है वहां पर बिजली कट रही है, अब कई मामलों में बिहार और उड़ीसा जैसे राज्य मध्य प्रदेश से बेहतर हो चुके है, और बिजली एक ऐसा ही मामला है