सेक्युलर व्यक्ति ने मुस्लिम छात्र की मदद के लिए उसे रखा घर पर, गला रेत दिया उस सेक्युलर व्यक्ति का मोमेना शोमा ने

रॉजर नाम का एक सेक्युलर शख्स जो की ऑस्ट्रेलिया के मेलबोर्न में रहता है, उसने बड़ा दिल दिखाते हुए और अत्यधिक सेक्युलर बनते हुए एक मुस्लिम छात्र की मदद का फैसला किया

मोमेना नाम की मुस्लिम छात्र बांग्लादेश से ऑस्ट्रेलिया गयी थी, उसे ऑस्ट्रेलिया ने स्टूडेंट वीजा पर एंट्री दी थी, मोमेना के पास ज्यादा पैसे नहीं थे, तो रॉजर नाम के सेक्युलर शख्स को उसपर दया आ गयी की बिचारी पढना चाहती है

रॉजर नाम के सेक्युलर शख्स ने मोमेना शोमा को अपने घर पर मुफ्त किराये पर रख लिया, 00 डॉलर के किराये पर, की तुम्हे रहने खाने का खर्च नहीं देना होगा, तुम मुफ्त में यहाँ रह सकते हो, और हमारे घर का खाना खा सकते हो, अपनी पढाई पूरी करो और अपना जीवन बेहतर करो

रॉजर 5 साल की बेटी और अपने अन्य परिजनों के साथ अपने घर में रहता था, 2 दिन तक मोमेना शोमा उसके घर में ठीक से रही, उसे घर के उपरी हिस्से में कमरा दे रखा था, रॉजर ने उसे घर में शरण दी थी, की ऑस्ट्रेलिया में उसे दर दर भटकना नहीं पड़ेगा

48 घंटे ही पुरे हुए थे की रॉजर अपनी 5 साल की बेटी के साथ खेल रहा था, इतने में मोमेना उनके ही किचन से 25 सेंटीमीटर लंबा चाकू लेकर आई और रॉजर के गर्दन में चाक़ू मार दिया, मोमेना ने रॉजर की गर्दन को आधा रेत दिया, शोर मचा तो लोगो ने उसे पकड़ लिया

ये घटना 9 फ़रवरी को हुई, पुलिस ने उसे कोर्ट में पेश किया और अब मेलबोर्न की कोर्ट ने मोमेना को 42 साल जेल की सजा दी है, मोमेना 26 साल की है

पुलिस ने कोर्ट को ये भी बताया की पूछताछ में मोमेना ने कुबूल किया की वो इस्लामिक स्टेट की सिपाही बन गयी और वो चाहती थी की रॉजर मर जाये, उसने जिहाद के लिए उसपर हमला किया था, पुलिस ने ये भी जानकारी दी की मोमेना ने चाक़ू से हमला करने से पहले चाकू से काफी रिहर्सल भी किया था ताकि रॉजर को अच्छे से चाक़ू मार सके और वो मर सके

हालाँकि मोमेना रॉजर को ठीक से चाक़ू नहीं मार सकी, रॉजर अधमरा हो गया पर उसे लोगो ने अस्पताल पहुँचाया जहाँ डॉक्टर ने उसकी जान को बचा लिया, रॉजर अब ठीक है, और उसे मोमेना को अपने घर पर शरण देने पर पछतावा है, और रॉजर का ये भी कहना है की वो इस तरह अब किसी को शरण और मदद नहीं करेगा