हिन्दू हूँ मैं, गर्व से तिलक लगाता हूँ, वो भिखारी नहीं हूँ जो वोट की खातिर पहनते है टोपी : राजा सिंह

राजा सिंह की बातें भले ही कडवी होती है पर बातें उनकी लॉजिकल ही होती है, जब सामने वाला तिलक लगाना अपने मजहब का अपमान समझता हो, तो फिर आप टोपी पहनकर एकतरफा सेकुलरिज्म करके क्या साबित कर लेते हो

राजा सिंह तेलंगाना के हैदराबाद जिले की घोसमहल सीट से बीजेपी के विधायक है, ये हिंदुत्व पर ही जीते है, जिस जिले में AIMIM जैसी जिहादी पार्टी सक्रीय है वहां पर राजा सिंह हिन्दुओ को एकजुट करके रखते है हिन्दुओ की एक आवाज हैं

राजा सिंह ने भारत के मॉडर्न जयचंदो अर्थात सेकुलरों पर तीखा कटाक्ष किया है, उन्होंने प्रखर हिंदुत्व की साफ़ बात कही है, कडवी बात कही है पर लॉजिकल बात कही है

राजा सिंह ने एक व्यंग के जरिये कहा की – मैं तो हिन्दू हूँ, गर्व से मैं तिलक लगाता हूँ, मैं वो भिखारी नहीं हूँ, जो वोट की खातिर टोपी पहन लेते है, वोट के लिए वो तिलक मिटा देते है

सुनिए राजा सिंह ने क्या कहा

राजा सिंह ने ये भी कहा की – जब वो लोग तिलक नहीं लगाते है तो फिर आप टोपी क्यों लगाते हो

सेकुलरिज्म कोई एकतरफा नहीं होता, सेकुलरिज्म एकतरफ़ा नहीं चल सकता, सामने वाला आपको सम्मान नहीं दे सकता तो आप उसे सम्मान देने का जो नाटक कर रहे हो वो आपके लिए घातक है और ये बात एक परम सत्य है