टूटा सपा बसपा गठबंधन, अखिलेश ने कहा – भाड़ में जाये गठबंधन, मैं भी लडूंगा 11 सीटों पर अकेले उपचुनाव

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुनाव प्रचार के दौरान ही कहा था की 23 मई के बाद 1 महीने के भीतर सपा और बसपा का गठबंधन टूट जायेगा और दोनों दलों के नेता एक दुसरे का सर फोड़ने पर आ जायेंगे

योगी आदित्यनाथ की बात सच साबित हुई, अभी 10 दिन ही हुए नहीं लोकसभा चुनाव के नतीजे आये पर सपा बसपा के नेता अब एक दुसरे का सर तोड़ने पर उतारू हो गए है

दोनों में गठबंधन हुआ था, 00 सीट वाली बसपा 10 सीट पर आ गयी, जबकि 5 सीट वाली सपा 5 पर ही रह गयी, अखिलेश यादव की खुद की बीवी और 2 संबंधी चुनाव हार गए, किरकिरी हो गयी अखिलेश यादव की, नंबर 2 पर थे पर नंबर 3 के नेता बन गए

चुनावी नतीजे के बाद भी अखिलेश यादव चुप रहे पर 3 जून को मायावती ने ठीकरा अखिलेश यादव पर ही फोड़ दिया, और कहा की हार अखिलेश यादव के कारण हुआ, वो यादवों का वोट ट्रान्सफर नहीं करवा सका

आज 4 जून है और आज अखिलेश यादव ने मायावती के साथ गठबंधन तोड़ने का सीधा ऐलान कर दिया, अखिलेश यादव ने आज अपनी चुप्पी तोड़ दी और तिमतिमाते हुए कहा की भाड़ में जाये बसपा के साथ गठबंधन, 11 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने है और सपा सभी 11 पर अकेले उपचुनाव लड़ेगी

इस से पहले 3 जून को मायावती ने भी ऐलान किया था की वो सभी 11 सीटों पर उपचुनाव अकेले लड़ेगी, अब अखिलेश यादव ने कह दिया की गठबंधन भाड़ में जाये

अखिलेश यादव ने ये भी कहा की – मायावती अकेले चुनाव लड़ रही है उसका स्वागत है, मायावती को लगता है की मेरी वजह से हार हुई है उसका भी स्वागत है, और ऐसा गठबंधन भाड़ में जाये, 11 सीटों पर सपा भी अकेले चुनाव लड़ेगी

आपकी जानकरी के लिए बता दें की मायावती से गठबंधन का विरोध सबसे पहले मुलायम सिंह यादव ने ही किया था, उन्होंने कहा था की फायदा मायावती ले जाएगी, और नुक्सान सपा को उठाना पड़ेगा, हुआ भी ऐसा ही, 23 मई के बाद अखिलेश यादव की यूपी में काफी किरकिरी हुई है

एक तो खुद की बीवी और 2 संबंधी हार गए, ऊपर से अखिलेश नंबर 2 पर थे, जो अब नंबर 3 के नेता हो गए, ऊपर से मायावती ने हार का ठीकरा उनपर ही फोड़ दिया, अखिलेश यादव को समझ में आ गया की 00 से मायावती 10 पर पहुँच गयी, पर वो 5 के 5 पर ही रहकर तीसरे नंबर पर पहुँच गए, लोग उन्हें अब यूपी का पप्पू भी कह रहे है