इमरान खान के साथ बैठक पर ट्रम्प ने कर दिया भारत का प्रशंसा! शर्म से मुंह छुपा लिया इमरान।

डोनाल्ड ट्रम्प ने पहले ही HOWDI MODI इस्लामिक आतंकवाद शब्द का इस्तेमाल करके पाकिस्तान को बड़ा झटका दिया है। आतंकवाद के धर्म का पता चलने के बाद, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पाकिस्तान में एक बार फिर मुसीबत खड़ी कर दी है।
पाकिस्तान लगातार जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठा रहा है और अमेरिका के सामने सबसे ज्यादा उठा रहा है। हालांकि, हर बार इमरान खान की उम्मीदें फीकी पड़ जाती हैं। सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फिर से पाकिस्तान को झटका दिया। ट्रम्प के साथ बैठक करते हुए इमरान खान ने एक झटका पाया है।

राष्ट्रपति ट्रम्प ने इमरान के सामने पीएम नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की और भारत के साथ अमेरिका के रिश्ते को अच्छा बताया। जब इमरान खान से मुलाकात के बाद न्यूयॉर्क में प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की गई थी, तब डोनाल्ड ट्रम्प ने इमरान के सामने कई बातें कही थीं जो पाकिस्तान के लिए एक कांटे की तरह लग रहा था। डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि भारत के साथ हमारे अच्छे संबंध हैं, उम्मीद है कि दोनों देश एकजुट होंगे। ट्रम्प ने कहा मैं पाकिस्तान के ऊपर विश्वास करता हूं कि वे सब कुछ ठीक करेंगे। लेकिन जो लोग (पाक मीडिया) सामने बैठे हैं वे पाकिस्तान में विश्वास नहीं करते हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने नरेंद्र मोदी के ‘हाउडी मोदी’ के भाषण की प्रशंसा की ट्रंप ने कहा है कि नरेंद्र मोदी ने अनुच्छेद ३७० पर आक्रामक भाषण दिया है, और लोगों ने इसे पसंद भी किया है। वहाँ बैठे लोग उसकी बात को गौर से सुन रहे थे। यही नहीं, अमेरिकी राष्ट्रपति ने HOWDI MODI कार्यक्रम में कहा, “मैं इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ लड़ने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के साथ हूं।”

अब, यह स्पष्ट है कि कश्मीर मुद्दे में पाकिस्तान की आखिरी उम्मीद खत्म हो गई है। नाटो देशों से पाकिस्तान का आशा खत्म हो गया है। सोमालिया के छोड़ के, किसी भी देश पाकिस्तान के समर्थन पे खड़े होने की उम्मीद नहीं है। दूसरी ओर, राष्ट्रपति ट्रम्प ने कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद शब्द का उपयोग करके आतंकवाद के धर्म का पता लगाया है। दशकों तक, बुद्धिजीवियों और पत्रकारों को आतंकवाद का धर्म नहीं मिले। ट्रम्प जानते हैं कि उन्हें वोट की जरूरत है इसलिए वह भारतीय अमेरिकियों को खुश करने के लिए पीछे नहीं हटेंगे। हालांकि, ट्रम्प को पलटी खाने में ज्यादा देर नही लगता।  फिरभी सिग्नल जो दुनिया के इतने बड़े मंच से जाने वाला था वो चला गया है।